hindi vyakaran (ras)

Published on
Scene 1 (0s)

बीएड 1 सेमेस्टर. विष य - हिंदी व्याकरण रस. द्वारा मार्गदर्शित.

Scene 2 (10s)

रस : शब्द की व्युत्पत्ति एवं अर्थ संस्कृत में 'रस' शब्द की व्युत्पत्ति 'रसस्यते असो इति रसाः' के रूप में की गई है; अर्थात् जिसका आस्वादन किया जाए, वही रस है; परन्तु साहित्य में काव्य को पढ़ने, सुनने या उस पर आधारित अभिनय देखने से जो आनन्द प्राप्त होता है, उसे 'रस' कहते हैं।.

Scene 3 (40s)

काव्य में रस का वही स्थान है, जो शरीर में आत्मा का है। जिस प्रकार आत्मा के अभाव में प्राणी का अस्तित्व सम्भव नहीं है, उसी प्रकार रसहीन कथन को काव्य नहीं कहा जा सकता। इस प्रकार रस ‘काव्य की आत्मा ‘ है।.

Scene 4 (1m 9s)

रस के प्रकार, भेद श्रृंगार रस हास्य रस रौद्र रस करुण रस वीर रस अद्भुत रस वीभत्स रस भयानक रस शांत रस वात्सल्य रस भक्ति रस.

Scene 5 (1m 21s)

श्रृंगार रस – अर्थ–नायक और नायिका के मन में संस्कार रूप में स्थित रति या प्रेम जब रस की अवस्था को पहुँचकर आस्वादन के योग्य हो जाता है तो वह 'श्रृंगार रस' कहलाता है।.

Scene 6 (1m 56s)

रौद्र रस - किसी व्यक्ति के द्वारा क्रोध में किए गए अपमान या कहे गए शब्द आदि से जो भाव उत्पन्न होता है, यही भाव परिपक्व अवस्था में रौद्र रस कहलाता है। रौद्र रस का स्थायी भाव क्रोध होता है।.

Scene 7 (2m 26s)

वी र रस - जब किसी रचना या वाक्य आदि से वीरता जैसे स्थायी भाव की उत्पत्ति होती है, तो उसे वीर रस कहा जाता है।.

Scene 8 (3m 2s)

बीभत्स रस - घृणित वस्तु, घृणित व्यक्ति या घृणित चीजों को देखकर, उनको देखकर या उनके बारे में विचार करके मन में उत्पन्न होने वाली घृणा या ग्लानि ही वीभत्स रस कहलाती है. बीभत्स रस का स्थायी भाव जुगुप्सा होता है..

Scene 9 (3m 36s)

शांत रस , मोक्ष और आध्यात्म की भावना, संसार से वैराग्य होने या परमात्मा के वास्तविक रूप का ज्ञान होने पर जो शान्ति मिलती है वहाँ शांत रस होता है.

Scene 10 (4m 9s)

भक्ति रस जहाँ ईश्वर के प्रति प्रेम या अनुराग का वर्णन होता है वहाँ भक्ति रस होता है. भक्ति रस का स्थायी भाव देव रति है जिसे भगवत विषयक रति भी कहते हैं..

Scene 11 (4m 25s)

रस प्रश्न–ज्ञान : परीक्षा में रस. अलंकार तथा छन्द में प्रत्येक से सम्बन्धित या तो एक–एक अंक के दो बहुविकल्पीय प्रश्न अथवा लक्षण एवं उदाहरण से सम्बन्धित दो–दो अंक का एक–एक लघूत्तरीय प्रश्न पूछा जाता है। रस, अलंकार व छन्दों के लिए पाठ्यक्रम में क्रमशः 2 + 2 + 2 = 6 अंक निर्धारित हैं।.

Scene 12 (4m 56s)

सर्वप्रथम भरतमुनि ने अपने ‘नाट्यशास्त्र’ में रस के स्वरूप को स्पष्ट किया था। रस की निष्पत्ति के सम्बन्ध में उन्होंने लिखा है– “विभावानुभावव्यभिचारिसंयोगाद्रसनिष्पत्तिः।” अर्थात् विभाव, अनुभाव तथा व्यभिचारी भाव के संयोग से रस की निष्पत्ति होती है। इस प्रकार काव्य पढ़ने, सुनने या अभिनय देखने पर विभाव आदि के संयोग से उत्पन्न होनेवाला आनन्द ही ‘रस’ है।.

Scene 13 (5m 22s)

रस के अंग (अवयव) रस के प्रमुख अंग निम्नलिखित हैं १ . स्थायी भाव, २ . विभाव, ३ . अनुभाव, ४ . संचारी अथवा व्यभिचारी भाव।.

Scene 14 (5m 53s)

स्थायी भाव–रस १ . रति–शृंगार २ . हास–हास्य ३ . शोक–करुण ४ . क्रोध–रौद्र ५ . उत्साह–वीर ६ . भय–भयानक ७ . आश्चर्य–अद्भुत ८ . जुगुप्सा, ग्लानि–बीभत्स ९ . निर्वेद–शान्त १ ० . वत्सलता–वात्सल्य १ १ . देवविषयक रति–भक्ति।.

Scene 15 (6m 6s)

इनमें अन्तिम दो स्थायी भावों (वत्सलता तथा देवविषयक रति) को श्रृंगार के अन्तर्गत सम्मिलित किया गया है। प्रत्येक स्थायी भाव का संक्षिप्त परिचय निम्नलिखित है.

Scene 16 (6m 31s)

उत्साह– मन की वह उल्लासपूर्ण वृत्ति, जिसके द्वारा मनुष्य तेजी के साथ किसी कार्य को करने में लग जाता है, ‘उत्साह’ कहलाती है। इसकी अभिव्यक्ति शक्ति, शौर्य एवं धैर्य के प्रदर्शन में होती है।.

Scene 17 (7m 2s)

वत्सलता –माता–पिता का सन्तान के प्रति अथवा भाई–बहन का परस्पर सात्त्विक प्रेम ही ‘वत्सलता’ कहलाता है।.

Scene 18 (7m 21s)

२ . रस का विभाव अर्थ–जो कारण (व्यक्ति, पदार्थ आदि) दूसरे व्यक्ति के हृदय में स्थायी भाव को जाग्रत तथा उद्दीप्त करते हैं, उन्हें ‘विभाव’ कहते हैं। विभाव के भेद–’विभाव’ आश्रय के हृदय में भावों को जाग्रत करते हैं और उन्हें उद्दीप्त भी करते हैं। इस आधार पर विभाव के निम्नलिखित दो भेद हैं.

Scene 19 (7m 56s)

३ . रस का अनुभाव अर्थ–आश्रय की चेष्टाओं अथवा रस की उत्पत्ति को पुष्ट करनेवाले वे भाव, जो विभाव के बाद उत्पन्न होते हैं, ‘अनुभाव’ कहलाते हैं। भावों को सूचना देने के कारण ये भावों के ‘अनु’ अर्थात् पश्चात्वर्ती माने जाते हैं। अनुभाव के भेद–अनुभावों के मुख्य रूप से निम्नलिखित चार भेद किए गए हैं १ . कायिक अनुभाव–प्रायः शरीर की कृत्रिम चेष्टा को ‘कायिक अनुभाव’ कहा जाता है। २ . मानसिक अनुभाव–मन में हर्ष–विषाद आदि के उद्वेलन को ‘मानसिक अनुभाव’ कहते हैं। ३ . आहार्य अनुभाव–मन के भावों के अनुसार अलग–अलग प्रकार की कृत्रिम वेश–रचना करने को ‘आहार्य अनुभाव’ कहते हैं। ४ . सात्त्विक अनुभाव हेमचन्द्र के अनुसार ‘सत्त्व’ का अर्थ है ‘प्राण’। स्थायी भाव ही प्राण तक पहुँचकर ‘सात्त्विक अनुभाव का रूप धारण कर लेते हैं।.

Scene 20 (8m 38s)

४ . रस का संचारी अथवा व्यभिचारी भाव अर्थ–जो भाव, स्थायी भावों को अधिक पुष्ट करते हैं, उन सहयोगी भावों को ‘संचारी भाव’ कहा जाता है। भरतमुनि ने संचारी भावों का स्पष्टीकरण करते हुए कहा है कि ये वे भाव हैं, जो रसों में अनेक प्रकार से विचरण करते हैं तथा रसों को पुष्ट कर आस्वादन के योग्य बनाते हैं। जिस प्रकार समुद्र में लहरें उत्पन्न होती हैं और उसी में विलीन हो जाती हैं, उसी प्रकार स्थायी भाव में संचारी भाव उत्पन्न और विलीन होते रहते हैं। संचारी भावों के भेद आचार्यों ने संचारी भावों की संख्या 33 निश्चित की है, जिनके नाम इस प्रकार हैं.

Scene 21 (9m 7s)

रस–निष्पत्ति में संचारी भावों का महत्त्व–संचारी भाव स्थायी भाव को पुष्ट करते हैं। वे स्थायी भावों को इस योग्य बनाते हैं कि उनका आस्वादन किया जा सके। यद्यपि वे स्थायी भाव को पुष्ट कर स्वयं समाप्त हो जाते हैं, तथापि ये स्थायी भाव को गति एवं व्यापकता प्रदान करते हैं।.